हस्तशिल्प

कालपी-  झांसी से कानपुर तक उत्तर मध्य रेलवे (भारत) लाइन पर एक स्टेशन है और इसके  साथ स्थानीय व्यापार (मुख्य रूप से अनाज, घी और कपास में) का केंद्र है, जो यमुना के समीप है। 1970 के दशक के उत्तरार्ध में और 1980 के दशक के शुरू में कालपी मध्य भारत के उन इलाकों में से एक था जो डकैतों से प्रभावित थे,  इसे भारत सरकार द्वारा औद्योगिक बेल्ट घोषित किया गया है और मशहूर हस्तनिर्मित कागज का उत्पादन किया जाता है।

हस्तनिर्मित कागज का इतिहास (PDF 344 KB)